0

महिला को मारकर सूटकेस में छुपाया शव, सूटकेस में छुपाया शव

ग्रेटर नॉएडा: कहते हैं प्यार इस दुनिया की सबसे खुबसूरत चीज होती है। जब कोई इंसान प्यार में होता है तो उसे दुनिया की परवाह नहीं होती है। उसके लिए ना ही कुछ गलत होता है और ना ही कुछ सही होता है। आपने लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि लोग प्यार में अंधे हो जाते हैं। कई बार इसी चक्कर में व्यक्ति गलत फैसले भी कर लेता है, जिसका खामियाजा उसे बाद में भुगतना पड़ता है। आजकल के जमाने में सच्चा प्यार करने वाले कम लोग ही दिखाई देते हैं।

हाल ही में एक नवविवाहिता की लाश बरामद हुई है। जानकारी के अनुसार विवाहिता पिछले 4 दिनों से लापता थी। अब पता चला है कि उसकी गला घोटकर हत्या कर दी गयी है। केवल यही नहीं हत्या के बाद दहेज़ में मिले सूटकेस में ही उसके शव को रखकर गाजियाबाद के कनवानी नाले के पास फेंक दिया गया था। आपकी जानकारी के लिए बता दें महिला कि छः महीने पहले ही शादी हुई थी और वह चार महीने से गर्भवती भी थी। मंगलवार देर रात तक सूटकेस में शव मिलने के बाद आसपास के जिले की पुलिस को इसकी सूचना दी गयी।

युवती के परिजनों ने सूटकेस और लड़की के पैर में बंधे काले धागे और पायल को देखकर उसकी पहचान की। लड़की के परिजनों ने उसके पति, सास-ससुर, और ससुराल के अन्य लोगों के खिलाफ दहेज़ के लिए हत्या करने का मामला दर्ज करवाया है। पुलिस ने मृत युवती के पति को हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने बताया कि मृत युवती का नाम माला था और उसकी उम्र लगभग 24 साल थी। माला गाजियाबाद की रहने वाली थी। माला काफी समय से बिसरख के हैबतपुर में रह रही थी।

7 अप्रैल की रात को वह अचानक गायब हो गयी थी। 8 अप्रैल को उसके पति शिवम ने दोपहर दो बजे बिसरख थाने उसके गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। इसके बाद से ही पुलिस उसकी छानबीन में लग गयी थी। मंगलवार की रात को लगभग साढ़े नौ बजे गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाना पुलिस को कनावनी में एक सूटकेस में बंद शव मिला। तुरंत ही पुलिस ने इसकी सूचना आस-पास के थानों में दी। जानकारी मिलते ही युवती के पिता थाने पहुंचे और सूटकेस देखते ही पहचान गए। मिली जानकारी के अनुसार शिवम पिछले 8 साल से नॉएडा सेक्टर-18 में स्थित डीएलएफ मॉल के एक कपडे के शोरूम में काम करता है।

माला से फेसबुक पर उसकी दोस्ती हुई थी। माला बिसरख के हैबतपुर में किराये के माकन में रहती थी। धीरे-धीरे दोनों की दोस्ती प्यार में बदली और दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया। हालाँकि जब दोनों ने घरवालों से शादी की बात की तो उन्होंने इसका विरोध किया। ज्यादा जिद करने के बाद घरवालों ने दोनों की 1 नवम्बर 2017 को शादी करा दी थी। माला पिछले चार महीने से गर्भवती भी थी। माला के पिता रामावतार का आरोप है कि दोनों की मर्जी से काफी दहेज़ देकर शादी की गयी थी। इसके बाद ससुराल में माला को लगातार प्रताड़ित किया जाता था। शिवम और उसके घरवाले 5 लाख रूपये और एक गाड़ी को लेकर उसे हर समय प्रताड़ित करते रहते थे। पैसे नहीं दिए जाने पर सभी ने मिलकर उसकी हत्या कर दी और लाश को सूटकेस में छुपा दिया।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *