0

हर समय मौत के मुंह में काम करता है यह जाबांज, लोग कहते हैं खतरों का खिलाडी

यह दुनिया बहुत बड़ी है और यहाँ पर हर दिन कुछ अजीबो-गरीब कारनामें होते रहते हैं। इस दुनिया में कई बार कुछ ऐसी भी घटनाएँ होती हैं, जिसके बारे में जानने के बाद खुद पर यकीन ही नहीं होता है। एक साधारण व्यक्ति ऐसी बातों के बारे में सोच भी नहीं सकता है। आप तो जानते ही हैं कि इस दुनिया में तरह-तरह के लोग रहते हैं। कुछ बहुत अच्छे हैं तो वहीँ कुछ लोग अपनी क्रूरता के लिए जानें जाते हैं। कुछ बहादुर हैं तो कुछ कायर भी हैं।

इसी दुनिया में कई ऐसे लोग भी हैं जो अपने काम के प्रति काफी समर्पित होते हैं। अक्सर लोग काम के बारे में कहते हैं कि काम कोई भी हो पूरी इमानदारी के साथ करना चाहिए। लेकिन कुछ काम ऐसे भी होते हैं जिनके लिए ईमानदारी के साथ ही साहस की भी जरुरत होती है। कुछ लोग अपने काम के लिए अपनी जान जोखिम में डालने से भी नहीं कतराते हैं। जी हाँ आपको भले ही यह मजाक लग रहा हो लेकिन आज भी कई ऐसे लोग हमारे बीच में मौजूद हैं, जिनके लिए उनका काम ही सबकुछ है।


आज हम आपको एक ऐसे ही व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे हैं, जो अपने काम के लिए मौत को गले लगाने में भी तैयार रहता है। यह व्यक्ति हर समय अपने काम को करने के लिए मौत के मुंह में खड़ा रहता है। 36 साल के माउन्ट इजेन पिछले 10 सालों से जावा के एक सक्रीय ज्वालामुखी में काम कर रहे हैं। आपको यह सुनकर काफी हैरानी हो रही होगी, लेकिन यह बिलकुल सच है। इजेन एक माइनर हैं और पिछले कई सालों से यहाँ की एक सल्फेट की खान में काम कर रहे हैं।


डर को अपने काम में बीच में ना आने देने वाले इजेन का कहना है कि, “अब ऐसा लगता है कि यही मेरा घर है। यहाँ पर मुझे काफी सुकून मिलता है। मैं पिछले कई सालों से यहाँ काम कर रहा हूँ।“ केवल यही नहीं इजेन ने इसी खतरनाक ज्वालामुखी के आस-पास अपनी दुनिया भी बसा ली है। ज्वालामुखी से कुछ ही दुरी पर इजेन ने अपना एक रेस्टोरेंट भी खोला हुआ है, जिसमें वह खुद ही खाना बनाते हैं। जब ज्वालामुखी शांत रहता है तो यहाँ पर काफी सैलानी आते हैं। फोटोग्राफर्स तो यहाँ हर समय आते-जाते रहते हैं।


आपको बता दें जावा का यह सक्रीय ज्वालामुखी कब फट जाये कुछ कहा नहीं जा सकता है। इसके फटने के बाद लावा, धुंआ और हानिकारक गैस से कई लोगों की जान भी जा सकती है। इसके बाद भी इजेन अपना काम पूरी लगन से करते हैं। ज्वालामुखी से कुछ ही दूरी पर इजेन का अपना घर भी है जहाँ उनकी पत्नी और एक बेटा भी है। ज्वालामुखी से निकलने वाली मिट्टी बहुत उपजाऊ होती है, इसलिए इजेन ने घर के आस-पास खेती भी की है। होने वाली फसल से इजेन का घर आसानी से चल जाता है। काफी खतरा होने के बाद भी इजेन अपने माइनिंग के काम को छोड़ना नहीं चाहते हैं।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *