0

3 साल बाद 29 मई पूर्णिमा पर बन रहा है दुर्लभ संयोग, खुलेगी आपकी किस्मत, बस करना है ये काम

वैसे तो हर माह की पूर्णिमा का महत्व होता है, पर इस जेष्ठ माह की पूर्णिमा पर मलमास होने के कारण पूर्णिमा का प्रभाव और अधिक बढ़ गया है। दरअसल मलमास हर तीन साल बाद आता है और इस बार तीन साल बाद मलमास के साथ पूर्णिमा है। जो कि बेहद ही शुभ मानी जाती है, ये मनुष्य के किए गए कर्मों का पुण्य कई गुना बढ़ा देता है। इस बार अधिक मास की पूर्णिमा 29 मई, मंगलवार को पड़ रही है, ऐसे में आप भी इस शुभ दिन का लाभ प्राप्त कर सकते हैं, इसके लिए आपको पूजा-अर्चना के साख कुछ विशेष उपाय भी कर सकते हैं जो कि आपकी सभी इच्छाओं की पूर्ति कर सकते हैं। आज हम आपको इस दिन करने योग्य एक ऐसे ही खास उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं।

एक तरफ जहां अधिक मास और पूर्णिमा पर भगवान विष्णु और लक्ष्मीजी की पूजा विशेष फलदायी मानी जाती है, वहीं इस बार मंगलवार को ये तिथि पड़ने के कारण इस दिन हनुमान जी की पूजा-अर्चना भी शुभ रहेगा।इस तरह इस दिन एक ही दिन में कई देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त की जा सकती है। ऐसे में अगर कोई व्यक्ति अपने दुर्भाग्य से परेशान है तो ये पूर्णिमा उसके लिए लाभकारी हो सकता है।

धर्म और ज्योतिष के जानकारों की माने तो इस पूर्णिमा के किए गए उपायों से किस्मत बदल सकती है। दरअसल तंत्र शास्त्र में विभिन्न् पेड़-पौधों में धन को आकर्षित करने की अद्भभूत क्षमता बताई गई है और इन्हीं में से एक सिद्ध और चमत्कारिक पौधा है सहदेवी का जिसे आम बोलचाल में सहदेई भी कहा जाता है। तंत्र शास्त्र में इसे धन को खींचने वाला पौधा कहा गया है, विशेषकर से अधिकमास की पूर्णिमा को लाया जाए तो।

इसके लिए पूर्णिमा से पहले की संध्या को सहदेवी के पौधे को निमंत्रण देकर आएं कि कल प्रात: हम आपको लेने आएंगे। इसके बाद अगले दिन यानी पूर्णिमा को सूर्योदय से पहले ही पौधे को गंगाजल से स्नान कराकर,उसे धीरे से उखाड़कर घर ले आएं। फिर घर में विधिवत पंचामृत से स्नान कराकर उसकी षोडशोपचार पूजा करें। इसके बाद इस पौधे की पत्तियां, तने और जड़ का प्रयोग आपके लिए इस तरह से लाभदायी होगा..

  • इसे घर के पूजन कक्ष में स्थापित करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है।
  • सहदेवी की सिद्ध की हुई जड़ को एक लाल रेशमी चमकदार कपड़े में लपेटकर उसे तिजोरी में रख दें, इससे आपको धन की कभी भी कमी नहीं होगी बल्कि इससे धन और आय चौगनी वृद्धी होगी ।
  • रसोईघर में या फिक अनाज के भंडारण सहदेवी की जड़ को रखने से वहां कभी भी अन्न् की कमी नहीं होती।
  • वहीं अगर आप कोर्ट-कचहरी या किसी दूसरे विवाद में फंसे हों और उसका फैसला आने वाला है तो उस दिन इसकी सिद्ध की हुई जड़ धारण करके जाएं, आपको निश्चित ही विजय मिलेगी।
  • जबकि अगर सहदेवी की जड़ को बांह पर बांधा जाए तो इससे हर तरह के रोग दूर हो जाते हैं।
  • सहदेवी की जड़ से बना काजल लगाने से आंखो में अद्भुत आकर्षण क्षमता आता ही, जिससे कि आपके सामने वाला हर व्यक्ति आपकी तरफ आर्कषित हो जाता है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *